Education

पतंजलि का मिक्स्ड फ्रूट (शुगर) जैम

1 Mins read

जैम त्यागें, पारंपरिक नाश्ता करें

उन्मेष गुजराथी
स्प्राउट्स एक्सक्लूसिव

स्प्राउट्स (Sprouts) की स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम का दावा है कि अपेक्षाकृत नवागुन्तक पतंजलि (Patanjali) का मिक्स्ड फ्रूट जैम हो या फिर हिंदुस्तान यूनिलीवर (Hindustan Unilever) के स्टेबल्स का दशकों पुराना किसान मिक्स फ्रूट जैम, दोनों ही शुगर कंटेंट से भरपूर हैं और सभी आयु समूहों के मानव उपभोग के लिए अस्वास्थ्यकर हैं. इनमें शुगर और खाद्य परिरक्षकों की मात्रा अधिक होती है.

इस हानिकारक खाद्य वैरायटी का उपयोग करने की बाध्यता में शामिल हैं, जैम सैंडविच बनाना आसान और त्वरित है और युवाओं चाहे वे बच्चे, बीस की अवस्था के मध्य के किशोर या पुरुष और महिलाएं हों सब के लिए स्वादिष्ट भी लगता है. हमारी एसआईटी पारंपरिक नाश्ते के उपयोग की सिफारिश करती है जो स्थानीय रूप से दक्षिण भारत में इडली या डोसा, महाराष्ट्र में कांडा पोहा या मिसल और उत्तर भारत में पराठा या नान बनाये जाते हैं.

एसआईटी यह स्वीकार करती है कि “स्वाद के लिए अच्छा” और “स्वास्थ्य के लिए अच्छा” के बीच संघर्ष में स्वाद की वरीयताओं की जीत हुई है. हालांकि, स्वस्थ और रोग मुक्त जीवन जीने के लिए, हमें जैम की इन वेरायटीज से बचने की आवश्यकता है जो चीनी पर भारी हैं.

आमतौर पर, पतंजलि के मिक्स्ड फ्रूट जैम (100 ग्राम) में 90 कार्बोहाइड्रेट्स होते हैं, जिनमें से 69 शुगर डेरिवेटिव्स होते हैं और चीजों को बदतर बनाने के लिए, इसमें फाइबर की मात्रा शून्य होती है. जब हमारी एसआईटी ने सामग्री की जांच की, तो पाया कि फलों के गूदे में इसकी सामग्री का केवल 45% होता है.

खाद्य परिरक्षकों और कलरिंग एजेंट कार्मोइसिन (carmoisine) का अनुपात अधिक था. यह भी पाया गया कि निर्माण की प्रक्रिया और इस जाम को बनाने वाली सामग्री मानव स्वास्थ्य के लिए बहुत खतरनाक है. आयुर्वेद, वह छतरी जिसके नीचे पतंजलि अपने उत्पादों की  मार्केटिंग करता है, केवल रॉक शुगर की सिफारिश करता है जिसे लोकप्रिय रूप से थ्रेड मिश्री कहा जाता है.

पतंजलि मिक्स्ड फ्रूट जैम में कार्मोइसिन का इस्तेमाल करता है. यह कैंसर जैसी खतरनाक बीमारियों को आमंत्रित करता है. खाद्य उत्पादों को उनका लाल रंग देने के लिए मूल रूप से सिंथेटिक फूड डाई (synthetic food dye) का उपयोग किया जाता है. इसे डाईसोडियम सॉल्ट (disodium salt) से बनाया जाता है.

बच्चों में अति सक्रियता पैदा करने के अलावा, कार्मोइसिन सामान्य एलर्जी प्रतिक्रिया के लक्षण भी पैदा कर सकता है जैसे कि त्वचा में सूजन, सांस लेने में कठिनाई और पित्ती. 

कार्मोइसिन के संपर्क में आने से श्वसन प्रणाली पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है. कार्मोइसिन उन खाद्य पदार्थों में पाया जाता है जिन्हें फर्मेंटेशन (fermentation) के बाद हीट- ट्रीटेड (heat-treated) किया जाना चाहिए.  खाद्य रंजक (food dye) ब्लैंकमैंज, बादाम के हलुआ, स्विस रोल, जैम, प्रेजरव्स और मिठाई जैसे खाद्य उत्पादों में भी पाया जाता है.

रिपोर्ट प्रकाशित करने के समय, मिक्स्ड फ्रूट जैम निर्माताओं से संपर्क करने के प्रयास बार-बार विफल रहे.

Related posts
Education

Pope blesses Father wedding Mother of 2

3 Mins read
William’s open secret- Sunitha is my wife not mistress! Unmesh Gujarathi sproutsnews.comIn one of the most scandalous, controversial and unbelievable decisions ever…
Education

Pope Francis turns Mysuru Bishop William into Father !

3 Mins read
Sunitha’s notice to Sprouts falls apart – Courtesy Yajmanuru William ! Unmesh Gujarathi sproutsnews.com Sprouts readers will recall that yesterday we carried…
Education

एलआईसी की बिक्री अशुभ समाचार  

1 Mins read
उन्मेष गुजराथी  स्प्राउट्स ब्रांड स्टोरी मुनाफे में चल रहे जीवन बीमा निगम (एलआईसी) Life Insurance Corporation (LIC) को कुछ निजी कारोबारियों को…